व्यापार

कृषक रूखमणी ठाकुर सात तालाबों में कर रही मछली पालन
  • September 06, 2021
मत्स्य पालन के व्यवसाय से होने वाले फायदा को देखते हुए धान की खेती करने वाले किसान भी अब मछली पालन व्यवसाय से सीधे जुड़ने लगे हैं और स्वरोजगार के साथ-साथ अन्य लोगों को रोजगार उपलब्ध करा रहे हैं। चारामा विकासखण्ड के ग्राम मैनखेड़ा निवासी श्रीमती रूखमणी ठाकुर ने अपने 16 एकड़ खेत में 07 तालाब का निर्माण किया है, जिसमें उनके द्वारा मछली पालन का कार्य किया जा रहा है, जिससे उन्हें प्रतिवर्ष प्रति एकड़ लगभग 01 लाख 25 हजार रूपये तक की शुद्ध आमदनी हो रही है।
श्रीमती रूखमणी ठाकुर ने बताया कि उनके द्वारा पहले अपने खेत में धान की खेती की जा रही थी, जिसमें लागत और श्रम दोनों बहुत लगता था तथा फायदा भी ज्यादा नहीं होता था। जब उन्होंने मछली पालन से होने वाले फायदों के बारे में सुना तथा तालाब निर्माण के लिए शासकीय मदद मिलने की जानकारी प्राप्त हुई, जिससे वे प्रेरित होकर शासन की योजना अंतर्गत राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से ढाई एकड़ खेत में तालाब बनवाया, जिसमें उन्हें मछली पालन विभाग से 02 लाख 80 हजार रूपये का अनुदान दिया गया। मछलीपालन में हुए लाभ को देखते हुए और तालाब बनाने का निर्णय लिया तथा 06 अतिरिक्त तालाब का निर्माण करवाया गया। वर्तमान में सभी तालाब में कतला, रोहू, मृगल, कामनकार, रूपचंदा और तेलपिया मछली के लगभग ढाई लाख बीज डालकर पालन कर रहे हैं, साथ ही 13 हजार नग मुर्गी का पालन भी किया जा रहा है। उन्हांने बताया कि मुर्गी के बीट एवं मुर्गी खाद को तालाब में डालकर मछली दाना के रूप में उपयोग किया जा रहा है, जिससे मछली का बढ़वार अच्छा हो रहा है।
श्रीमती रूखमणी ठाकुर ने बताया कि उनके द्वारा प्रतिवर्ष 30 टन तक मछली का उत्पादन किया जाता है, जिससे उन्हें धान फसल की तुलना में ज्यादा फायदा हो रहा है। उनके द्वारा उत्पादित मछली के विक्रय से 20 से 25 फुटकर मछली विक्रेता को भी रोजगार मिल रहा है। मछली पालन से होने वाले फायदा को देखते हुए क्षेत्र के अन्य 10 से 15 किसान भी उनसे प्रेरणा लेकर अपने धनहा खेत को तालाब बनाकर मछली पालन का कार्य कर रहे हैं, जिससे उनकी भी आर्थिक स्थिति में सुधार हो रहा है।

Subscribe

Contact No.

+91-9770185214

Email

cleanarticle@gmail.com

Location

Prem Nagar Indra Bhata, H.no-509, Vidhan Sabha Road, Near Mowa Over Bridge, Raipur, Chattisgarh - 492007

Visitors

5643